Anil Agrawal
Anil AgrawalRaj Express

राष्ट्र निर्माण में कारोबारी निभाते हैं अहम भूमिका राजनेता नेतृत्व करते हैं, देश को बनाते हैं उद्यमी

वेदांता समूह के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने अपनी ताजा सोशल मीडिया पोस्ट में इस बात पर निराशा जताई कि देश में उद्यमियों के योगदान को कम करके आंका जाता है।

हाईलाइट्स

  • पोस्ट में निराशा जताई कि देश में उद्यमियों के योगदान को कम करके आंका जाता है।

  • उदाहरण देते हुए कहा कि अमेरिका का निर्माण 5 उद्यमियों ने मिलकर किया है।

राज एक्सप्रेस। अरबपति कारोबारी और वेदांता समूह के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने अपनी ताजा सोशल मीडिया पोस्ट में इस बात पर निराशा जताई कि देश में उद्यमियों के योगदान को कम करके आंका जाता है। राष्ट्रनिर्माण में उद्यमियों की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी देश के निर्माण में वहां से उद्योगपतियों का अहम योगदान होता है। उन्होंने अपनी पोस्ट में कहा कि राजनेता देश का नेतृत्व करते हैं, जबकि उद्यमी इसे बनाते हैं।

अनिल अग्रवाल ने एक्स पर लंबा पोस्ट शेयर किया है और इसके साथ ही अपनी एक तस्वीर भी साझा की है। इस पोस्ट में देश के प्रमुख उद्यमी अनिल अग्रवाल ने लिखा कि जब मैं अमेरिका, ब्रिटेन, जापान या फिर किसी और लोकतांत्रिक देश को देखता हूं, तो मुझे इस बात का एहसास होता है कि जहां राजनेता देश का नेतृत्व और सशक्तिकरण की जिम्मेदारी निभाते हैं, वहीं उद्यमी इसके निर्माण की जिम्मेदारी निभाते हैं। अनिल अग्रवाल ने अपनी बात की पुष्टि के लिए अमेरिका का उदाहरण दिया।

सोशल मीडिया पर वायरल इस पोस्ट में अमेरिका का उदाहरण देते हुए अरबपति कारोबारी ने कहा कि अमेरिका का निर्माण 5 उद्यमियों ने मिलकर किया है। इनमें रॉकफेलर, एंड्रयू कार्नेगी, जेपी मॉर्गन, फोर्ड और वेंडरबिल्ट शामिल हैं। इन सभी उद्यमियों ने अपनी अधिकांश संपत्ति परोपकार के लिए दान कर दी, जिसके अमेरिका को बनाने में मदद मिली। अनिल अग्रवाल की यह पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है।

अमेरिका, ब्रिटेन और जापान जैसे देशों का उदाहरण देते हुए अनिल अग्रवाल ने भारत को लेकर भी बड़ी बात कही है। उन्होंने अपनी पोस्ट में लिखा, 'हमारे भारत में, घरेलू उद्यमियों की भूमिका को कभी-कभी कम करके आंका जाता है। लेकिन, वे देश के लिए जो कर सकते हैं और जो सोच सकते हैं, वह और कोई भी नहीं कर सकता। वे विदेशी टेक्नोलॉजी और फंडों के साथ मजबूत गठजोड़ कर सकते हैं। और जरूरी धन जुटाने के मामले में वे हमेशा ही बेहद उपयोगी साबित होते हैं।

पोस्ट के अंत में उन्होंने कहा अगर घरेलू उद्यमियों की कमाई होगी, तो वे अमेरिकी उद्यमियों की तरह से ही परोपकार के माध्यम से कमाई का हिस्सा दान करना चाहेंगे। वेदांता चेयरमैन ने लिखा, 'सरकार को घरेलू कारोबारियों को अधिक सम्मान और मान्यता देनी चाहिए, जिससे उन्हें प्रोत्साहन मिलेगा। अनिल अग्रवाल ने कहा कि मेरी धारणा है कि वे मुकदमेबाजी, ऑडिट और लंबी सरकारी प्रक्रियाओं से डरते हैं। कोई भी लोकतांत्रिक देश जो अमीर बन सका, उसका कारण यह था कि उसने अपने उद्यमियों पर उसने ऐसा इसलिए कर पाया है क्योंकि उन्होंने उद्यमियों पर भरोसा किया, उन्हें मान्यता दी है और उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.com