PM Modi and british PM Sunak
PM Modi and british PM SunakRaj Express

एफटीए से भारत-ब्रिटेन के बीच बढ़ेगा ट्रेड, निवेश को मिलेगा बढ़ावा, इसका दोनों देशों को मिलेगा फायदा

आईएसडब्ल्यूएआई और स्कॉच व्हिस्की एसोसिएशन ने एक संयुक्त बयान में उम्मीद जताई है कि भारत और ब्रिटेन के बीच एफटीए पर जारी बातचीत का सफल समापन होगा।

हाईलाइट्स

  • भारत और यूके के बीच होने वाला समझौता स्कॉच व्हिस्की पर टैरिफ में कमी के साथ उपभोक्ताओं को अधिक विकल्प देगा

  • उद्योग निकायों को भारत यूके-एफटीए के सफल समापन की उम्मीद, जी-20 समिट के दौरान बातचीत में आ सकती है तेजी

राज एक्सप्रेस। जी20 नेताओं के शिखर सम्मेलन से पहले, भारतीय स्पिरिट्स और वाइन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (आईएसडब्ल्यूएआई) और स्कॉच व्हिस्की एसोसिएशन ने एक संयुक्त बयान में उम्मीद जताई है कि भारत और ब्रिटेन के बीच जारी मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) के तहत जारी बातचीत का सफल समापन होगा। इस समझौते का भारतीय शराब कंपनियों पर पड़ने वाले प्रभाव से जुड़ी आशंकाएं खत्म होंगी और इससे दोनों देशों की अर्थव्यवस्थाओं को लाभ मिलेगा।

वर्तमान में, भारत में स्कॉच व्हिस्की पर 150% का टैरिफ है। इस समझौते के तहत, टैरिफ को धीरे-धीरे कम किया जाएगा, जिससे भारतीय उपभोक्ताओं को स्कॉच व्हिस्की पर कम कीमतों का आनंद मिलेगा। इससे उन्हें विभिन्न ब्रांडों और प्रकारों के स्कॉच व्हिस्की का चयन करने का विकल्प मिलेगा। इस समझौते से भारतीय शराब उद्योग को भी लाभ होगा, क्योंकि वे स्कॉच व्हिस्की के आयात पर होने वाले खर्च से बच सकेंगे। इससे उन्हें अपने उत्पादों की कीमतों को कम करने और प्रतिस्पर्धी बने रहने में मदद मिलेगी।

कम टैरिफ पर प्रीमियम स्कॉच का आयात चर्चा का मुख्य

भारत-यूके के बीच जारी व्यापार वार्ता में यूके से कम टैरिफ पर प्रीमियम स्कॉच व्हिस्की का आयात चर्चा का मुख्य बिंदु है। उम्मीद है कि बोतलबंद स्कॉच के लिए न्यूनतम आयात मूल्य प्रदान किया जाएगा। हालांकि इसका घरेलू उद्योग पर एकदम विपरीत प्रभाव पड़ेगा, इसको लेकर चिंताएं व्यक्त की जा रही हैं। आईएसडब्ल्यूएआई और स्कॉच व्हिस्की एसोसिएशन ने उम्मीद जताई कि एफटीए होने से दोनों देशों के बीच व्यापार और निवेश को बढ़ावा मिलेगा। इससे दोनों देशों के लोगों के लिए समृद्धि और विकास की संभावनाएं बढ़ेंगी। बयान में कहा गया है कि एफटीए से भारतीय शराब कंपनियों को भी लाभ मिलेगा, क्योंकि वे स्कॉच व्हिस्की के आयात पर होने वाले खर्च से बच सकेंगी। बयान में कहा गया है कि एफटीए को सावधानी से तैयार किया जाना चाहिए, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इसका घरेलू उद्योग जगत पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि एफटीए को इस तरह से तैयार किया जाना चाहिए कि यह भारतीय शराब कंपनियों को प्रतिस्पर्धी बने रहने में सहायक साबित हो।

टैरिफ कम होने से भारतीय उद्यमियों को मिलेगा बढ़ावा

आईएसडब्ल्यूएआई की सीईओ नीता कपूर ने कहा, अगर एफटीए वार्ता से स्कॉच व्हिस्की पर भारत के 150 प्रतिशत टैरिफ में कमी आती है, तो निस्संदेह इससे स्कॉच के निर्यात को बढ़ावा मिलेगा और छोटे उत्पादकों के बाजार में प्रवेश करने से उपभोक्ताओं के पास अधिक विकल्प होंगे। उन्होंने कहा आयात लागत कम होने से भारत निर्मित विदेशी शराब (आईएमएफएल) ब्रांडों को प्रोत्साहन मिलेगा और भारतीय बाजार के लिए बोतलबंद-इन-इंडिया स्कॉच और प्रीमियम भारतीय व्हिस्की के निर्माण में नौकरियों और निवेश को और प्रोत्साहन मिलेगा। जिन्हें अन्य बाजारों में भी बेचा जा सकता है।

एसडब्ल्यूए के सीईओ मार्क केंट ने कहा स्कॉच व्हिस्की डिस्टिलर्स के लिए, भारत एक अनूठा बाजार है। भारत को होने वाले निर्यात का केवल 24 प्रतिशत स्कॉटलैंड में बोतलबंद किया जाता है। भारत में बेची जाने वाली अधिकांश स्कॉच व्हिस्की स्थानीय स्तर पर बोतलबंद होती है, जबकि थोक स्कॉच व्हिस्की भारतीय व्हिस्की में एक महत्वपूर्ण घटक है।

इसी माह होने वाली है एएफटी पर 13वें दौर की बातचीत

मार्क केंट ने चिंताओं को दूर करते कहा कि घरेलू व्हिस्की उत्पादकों के आकार, लोकप्रियता और बाजार की शक्ति को देखते हुए, आयातित स्कॉच व्हिस्की भारतीय व्हिस्की से बहुत कम सीधी प्रतिस्पर्धा करेगी। कपूर के अनुसार, 2022 में कुल भारतीय स्पिरिट बाजार 367 मिलियन पेटी का था, जिसमें भारतीय व्हिस्की की बिक्री 234 मिलियन पेटी थी। भारत में स्कॉच व्हिस्की की 8.1 मिलियन पेटी बिक्री हुई, जो कुल व्हिस्की बाजार का 3 प्रतिशत से भी कम है। भारत और ब्रिटेन ने हाल ही में मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) के लिए 12वें दौर की बातचीत की है। 13वें दौर की बातचीत इसी महीने होने वाली है। उम्मीद है कि जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान बातचीत को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी, जिसमें ब्रिटिश पीएम ऋषि सुनक के भी शामिल होने की संभावना है। माना जा रहा है कि उनकी मौजूदगी में इस बातचीत को अंतिम दौर में ले जाने में मदद मिलेगी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.com