Morgn Stanley
Morgn StanleyRaj Express

मॉर्गन स्टेनले ने 'स्टैंडआउट ओवरवेट' की भारतीय बाजारों की रेटिंग, बताया यह निवेश का सबसे बेहतर स्थान

मॉर्गन स्टेनली ने भारत की अर्थव्यवस्था और बाजार की तेजी के आधार पर भारतीय बाजारों की रेटिंग को बढ़ाकर स्टैंडआउट ओवरवेट कर दिया है।

हाईलाइट्स

  • मॉर्गन स्टेनली ने अर्थव्यवस्था के आकार व बाजार की तेजी के आधार पर भारतीय बाजारों की रेटिंग बढ़ाई

  • रिपोर्ट में कहा गया है भारत की आर्थिक स्थिति व आय में वृद्धि के हिसाब से लगातार सुधर हो रहा है

राज एक्सप्रेस। मॉर्गन स्टेनली ने भारत की अर्थव्यवस्था और बाजार की तेजी के आधार पर भारतीय बाजारों की रेटिंग को बढ़ाकर स्टैंडआउट ओवरवेट कर दिया है। मॉर्गन स्टेनली ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि भारत की आर्थिक स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है। एफडीआई के साथ-साथ पोर्टफोलियो प्रवाह में उल्लेखनीय बढोतरी दर्ज की गई है। मॉर्गन स्टेनली ने भारत को "स्टैंडआउट ओवरवेट" में अपग्रेड किया है।

मॉर्गन स्टेनली की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत की आर्थिक स्थिति और आय में वृद्धि में लगातार सुधार देखने में आया है। भारतीय बाजार मैक्रो-स्थिरता सेटअप उच्च वास्तविक दर के माहौल का सामना करने के लिए पर्याप्त रूप से सक्षम दिखाई देता है। मॉर्गन स्टेनली ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि भारत अभी भी ओवरवेट है। इसी लिए हमने भारतीय इक्विटी और उभरते बाजार के रूप में अपना ओवरवेट रुख बढ़ाने का निर्णय लिया है।

उन्होंने कहा घरेलू प्रवाह का बेहतरीन दौर जारी है और एफडीआई के साथ-साथ पोर्टफोलियो प्रवाह को भी देश की ओर बढ़ा रही है। इसके अलावा घरेलू इक्विटी के साथ वैश्विक इक्विटी निवेश स्कोर को 68 पर रखा है। सिंगापुर दूसरे उच्चतम स्कोर 54 पर है, ग्रीस 47 पर है, मेक्सिको 43 पर है और पोलैंड को 38 पर रखा गया है। भारत 2021 की शुरुआत से अक्टूबर 2022 तक संरचनात्मक रूप से एमएससीआई ईएम सूचकांक में 45.5 प्रतिशत से बेहतर प्रदर्शन कर रहा है। उम्मीद की जा रही है कि एमएससीआई ईएम सूचकांक को लेकर उम्मीद जताई जा रही है कि बेहतर प्रदर्शन का यह क्रम जारी रहेगा।

रिपोर्ट में बताया गया है कि ट्रैकर से पता चलता है कि भारत में जुलाई 2021 से पीएमआई विनिर्माण विस्तार क्षेत्र में बना हुआ है, जो व्यापक बाहरी कमजोरी के बीच मजबूत घरेलू मांग से प्रेरित है। इसके अलावा, उच्च मुद्रास्फीति के कारण मौद्रिक नीतियों में अचानक बदलाव की पिछली चिंताएं सितंबर सीपीआई के 5 प्रतिशत तक कम होने और कोर सीपीआई के 4.6 प्रतिशत तक कम होने के बाद कुछ हद तक कम हो गई हैं। सितंबर में सेवा व्यापार संतुलन में क्रमिक सुधार के साथ व्यापार घाटा भी कम हुआ है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.com