SBI
SBIRaj Express

पिछले नौ सालों में बैंकों के कारोबार में हुआ तेज विस्तार, एसबीआई ने रिपोर्ट में किया खुलासा

भारतीय स्टेट बैंक यानी एसबीआई की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि देश के बैंकिंग सेक्टर में पिछले नौ सालों में महत्वपूर्ण प्रगति की है।

हाईलाइट्स

  • 63 सालों में जितना विकास नहीं हुआ, उससे अधिक विकास पिछले नौ साल में हुआ

  • 1951 से लेकर मार्च, 2014 तक बैंकों ने 142 लाख करोड़ रुपए का कारोबार किया

  • जबकि, मार्च 2014 से मार्च 2023 तक बैंकों ने 187 लाख करोड़ का कारोबार किया

राज एक्सप्रेस। भारतीय स्टेट बैंक यानी एसबीआई की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि देश के बैंकिंग सेक्टर में पिछले नौ सालों में महत्वपूर्ण प्रगति की है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले 63 सालों में जितना विकास नहीं हुआ, उससे अधिक विकास पिछले नौ साल के दौरान हुआ है। एसबीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 1951 से लेकर मार्च, 2014 तक बैंकों ने 142 लाख करोड़ रुपए का कारोबार किया है। बैंकों के कारोबार में ऋण देने और जमा से जुड़ी गतिविधियां शामिल हैं।

मार्च 2014 से लेकर वर्ष 2023 के मार्च तक बैंकों ने ऋण देने व जमा लेने के मद में 187 लाख करोड़ रुपये का कारोबार किया है। यानी बैंकों ने पिछले नौ साल के दौरान गत 63 सालों की तुलना में 1.3 गुना ज्यादा कारोबार किया। रिपोर्ट में कहा गया है कि बैंकिंग सेक्टर के विकास से पता चलता है कि हमारी अर्थव्यवस्था बढ़ोतरी की ओर है। एसबीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि बैंकिंग सेक्टर की स्थिति लगातार मजबूत हो रही है और अब असुरक्षित लोन की संख्या भी कम होती जा रही है।

देश में विनिर्माण गतिविधियों में बढ़ोतरी से बैंकों से पहले के मुकाबले ज्यादा कर्ज लिए जा रहे हैं। वर्ष 2022 से बैंकों से लिए जाने वाले कर्ज में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। 2022 से लेकर इस साल सितंबर तक बैंकों में होने वाले डिपोजिट में 13.2 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है, जबकि बैंकों के लोन में 20 प्रतिशत बढ़ोतरी देखने में आई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 98 प्रतिशत पर्सनल लोन 50,000 रुपए या इससे अधिक रकम के होते हैं। सिर्फ दो प्रतिशत लोन ही 50,000 रुपए से कम के होते हैं। रिपोर्ट में इन दो प्रतिशत वाले लोन को ही अधिक असुरक्षित बताया गया है। पर्सनल लोन में सबसे अधिक हिस्सेदारी हाउसिंग और ऑटो लोन की है। दोनों ही लोन की अवधि ज्यादा होती है और ये काफी सुरक्षित लोन माने जाते हैं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.com