संबित पात्रा
संबित पात्राRaj Express

आर्मी चीफ को कांग्रेस सड़क का गुंडा कहती है और आतंकवादी के मन को पढ़ने की बात करती है: संबित पात्रा

नई दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में मीडिया ब्रीफिंग कर भाजपा नेता संबित पात्रा ने कांग्रेस पार्टी पर जोरदार हमला बोला और कहीं ये बातें...

दिल्ली, भारत। भाजपा नेता संबित पात्रा ने आज शुक्रवार को नई दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में मीडिया ब्रीफिंग कर कांग्रेस पार्टी पर जोरदार हमला बोला है।

भाजपा नेता संबित पात्रा ने कहा- आज हम सुबह से भारतीय सेना के उन अफसरों और जवानों की अंतिम यात्रा को देख रहे थे, जिन्होंने मां भारती के लिए जम्मू कश्मीर में आतंकियों से लड़ते हुए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है। मगर मुझे आश्चर्य होता है कि कुछ चैनल ये भी दिखा रहे हैं कि अभी भी वहां आतंकी हमलों पर कार्रवाई जारी है। इन सबके बीच कुछ नेता ऐसे हैं, जो देश विरोधी बयान दे रहे हैं। कांग्रेस के दिग्गज नेता सैफ़ुद्दीन सोज ने बयान दिया है कि हिंदुस्तान को पाकिस्तान से न केवल बात करनी चाहिए अपितु आतंकवादियों के दिमाग में क्या चल रहा है, उसे भी समझने को कोशिश प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को करनी चाहिए।

ये कांग्रेस की सोच है, सैफ़ुद्दीन सोज वही कांग्रेसी नेता है जिन्होंने अपनी किताब में लिखा था कि जम्मू कश्मीर अलग होना चाहिए। वही आज इस प्रकार के बयान दे रहे हैं। आर्मी चीफ को कांग्रेस सड़क का गुंडा कहती है और आतंकवादी के मन को पढ़ने की बात करती है। हम इस बयान की निंदा करते हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा

  • संविधान (पहला संशोधन) अधिनियम, 1951, 10 मई 1951 को तत्कालीन प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा पेश किया गया था। विशेष रूप से, यह संशोधन अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अंकुश लगाने के लिए था, इसने भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को प्रतिबंधित करने के साधन प्रदान किए। यह भारत का, जवाहर लाल नेहरू का पहला संशोधन था।

  • जहां तक फारुख अब्दुल्ला और बाकी नेताओं का सवाल है उन्होंने भी पाकिस्तान से बातचीत की बात कही है। हिंदुस्तान ने हजारों बार कहा है कि Talks and terror can never moves together. उसके बावजूद जब वीर जवानों की यात्रा चल रही है, उस समय ऐसे बयान न केवल अनुचित हैं बल्कि दुःखद भी हैं।

  • इंदिरा गांधी के नेतृत्व में 1975 के आपातकाल में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का इतना दमन किया गया जैसा पहले कभी नहीं हुआ था। 1971 में संसद द्वारा पारित आंतरिक सुरक्षा रखरखाव अधिनियम (MISA) ने प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी और भारतीय कानून प्रवर्तन एजेंसियों के प्रशासन को बहुत व्यापक शक्तियाँ प्रदान कीं। प्रेस पर ताला लगा दिया गया, लोगों और मीडियाकर्मियों पर अत्याचार किये गये।

  • कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के नेता सवाल पूछते हैं कि सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक फर्जी थे, आप हमें सबूत दिखाइए। कांग्रेस के दिग्गज नेता पूछते हैं कि बताओ भगवान राम किस कमरे में पैदा हुए थे बताइए। जब ये सवाल पूछते हैं कि तो जायज है, इनका कोई बॉयकाट नहीं होता, लेकिन जब पत्रकार किसी डिबेट में इनसे सवाल पूछ लेता है कि आपके राज्य में भ्रष्टाचार क्यों हो रहा है। तो ये पत्रकारों का बॉयकाट कर देते हैं।

  • जहां तक फारुख अब्दुल्ला और बाकी नेताओं का सवाल है उन्होंने भी पाकिस्तान से बातचीत की बात कही है। हिंदुस्तान ने हजारों बार कहा है कि Talks and terror can never moves together. उसके बावजूद जब वीर जवानों की अंतिम यात्रा चल रही है, उस समय ऐसे बयान न केवल अनुचित हैं बल्कि दुःखद भी हैं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.com