गीता प्रेस को मिला गांधी शांति पुरस्कार
गीता प्रेस को मिला गांधी शांति पुरस्कारSyed Dabeer Hussain - RE

गीता प्रेस को मिला गांधी शांति पुरस्कार, लेकिन हो रही सियासत

कांग्रेस पार्टी के द्वारा गीता प्रेस को पुरस्कार दिए जाने के फैसले पर तीखी आलोचना की जा रही है। तो वहीं बीजेपी नेता भी कांग्रेस पर हमला बोलने से पीछे नहीं हट रहे हैं।

राज एक्सप्रेस। केंद्र सरकार के द्वारा हाल ही में गीता प्रेस को गांधी शांति पुरस्कार दी जाने की घोषणा की गई है। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से ट्वीट करके गीता प्रेस, गोरखपुर को गांधी शांति पुरस्कार 2021 से सम्मानित किए जाने पर बधाई दी है। जहां एक तरफ देशभर में इस फैसले से खुशी की लहर है, तो वहीं दूसरी ओर इस फैसले के सामने आते ही देश में सियासत भी तेज हो गई है। कांग्रेस पार्टी के द्वारा गीता प्रेस को पुरस्कार दिए जाने के फैसले पर तीखी आलोचना की जा रही है। तो वहीं बीजेपी नेता भी कांग्रेस पर हमला बोलने से पीछे नहीं हट रहे हैं। चलिए जानते हैं क्या हो रही सियासत?

कांग्रेस ने की आलोचना

गीता प्रेस, गोरखपुर को गांधी शांति पुरस्कार दिए जाने पर कांग्रेस सरकार के फैसले की जमकर आलोचना कर रही है। इस मामले में कांग्रेस के महासचिव जयराम नरेश का कहना है कि सरकार का यह फैसला किसी उपहास की तरह है। यह वास्तव में सावरकर और गोडसे को पुरस्कार देने जैसा है।

बीजेपी का पलटवार

कांग्रेस नेता की इस आलोचना पर केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने कहा कि, गीता प्रेस हमारे देश की संस्कृति का हिस्सा है। यह हिन्दू मान्यताओं के साथ भी जुड़ी हुई है। इस फैसले पर वो लोग सवाल उठा रहे हैं जो मुस्लिम लीग को धर्मनिरपेक्ष मानते हैं। उन्होंने आगे कहा कि जिस मुस्लिम लीग ने देश का बंटवारा कराया वह कांग्रेस के लिए धर्मनिरपेक्ष हो गई और गीता प्रेस अप्रिय।

वहीं असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा ने कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा है कि कांग्रेस कर्नाटक की जीत से घमंड में आ गई है। इसीके चलते वह भारतीय संस्कृति पर भी खुला प्रहार कर रही है।

इसके अलावा बीजेपी के प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस को हिन्दू विरोधी तक बताया, और लोगों से कहा कि अगर गीता प्रेस को एक्सवायजेड कहा जाता तो कांग्रेस को आपत्ति नहीं होती। लेकिन यह गीता प्रेस है इसलिए कांग्रेस को समस्या हो रही है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.com