Vibrio Vulnificus Bacteria
Vibrio Vulnificus BacteriaSyed Dabeer Hussain - RE

सीफूड खाते और पकाते वक्‍त रखें इन बातों का ध्‍यान, नहीं तो आपके अंगों को खाना शुरू कर देगा Vibrio Vulnificus

Vibrio Vulnificus नाम फ्लैश ईटिंग बैक्टीरिया सीफूड के जरिए लोगों के शरीर तक पहुंचकर उनका मांस खा रहा है। ऐसे में सीफूड खाने वालों के लिए CDC ने कुछ टिप्‍स जारी किए हैं।

हाइलाइट्स :

  • सीफूड के सेवन से फैल रहा है विब्रियो वल्‍नीफिकस का खतरा।

  • समुद्री मछलियों, झींगा और शेलफिश में पाया जाता है यह बैक्‍टीरिया।

  • सीफूड के जरिए शरीर में प्रवेश कर मांस खाना शुरू कर देता है।

  • कच्‍चा और अधपका सीफूड खाने से बचना चाहिए।

Vibrio Vulnificus : पिछले कुछ सालों में दुनिया में बैक्टीरिया का प्रकोप बढ़ा है। खास बात है कि इन पर दवाओं का असर नहीं होता। हाल ही में विब्रियो वल्‍नीफिकस भी अपने पैर पसारने लगा है। यह बैक्‍टीरिया समुद्र में होता है। यह समुद्री चीजों के रास्‍ते इंसान के शरीर तक पहुंच जाता है और अंदरूनी मांस को खाने लगता है। ऐसे में जो लोग सीफूड खाते हैं, उन्‍हें अब बहुत सावधान रहना होगा। अगर आप सी फूड्स जैसे मछलियां, स्केट्स, रे, झींगा, केकड़ा और घोंघा खाते हैं तो आपको इन फूड्स के जरिए इस बैक्टीरिया से खतरा हो सकता है, जो धीरे-धीरे आपके शरीर को खोखला कर देगा।

बता दें कि भारत सीफूड के टॉप 5 एक्‍सपोटर्स में से एक है। यहां पर गोवा, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, केरल और मुंबई के लोग सबसे ज्यादा झींगा, घेंघा और मछली खाते हैं। देखा जाए, तो काफी हेल्‍दी फूड है। इसमें सैचुरेटेड फैट कम और प्रोटीन सहित ओमेगा-3 फैटी एसिड, विटामिन ए और बी विटामिन जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। लेकिन ये सीफूड इन दिनों लोगों की जान पर भारी पड़ रहे हैं। इसलिए CDC और सेंटर फॉर फूड सेफ्टी (हांगकांग) ने कुछ टिप्‍स बताए हैं। इन्‍हें फॉलो करके विब्रियोसिस के खतरे को कम करने में बहुत मदद मिलेगी।

रेफ्रिजरेट करें

वी वल्‍नीकिफिकस ज्यादा तापमान को झेल नहीं सकता। इसलिए सीफूड को रेफ्रिजरेट करने से बैक्‍टीरिया को बढ़ने से रोका जा सकता है।

शेलफिश को पकाएं

खासतौर से अगर आप शेलफिश खाते हैं, तो खाने से पहले अच्छी तरह पकाएं। संभव हो तो पकाने से पहले शेल हटा दें या 100°C पर तब तक उबालें जब तक कि उनके शेल खुल न जाएं। इसके बाद और तीन से पांच मिनट तक उबालें। हालांकि बहुत से लोग कुछ शेलफिश को जीवित और कच्चा या अधपका खाना पसंद करते हैं,लेकिन इससे संक्रमण का खतरा ज्‍यादा होता है।

कच्‍चा सीफूड खाने से बचें

कच्‍चा या अधपका कोई भी सीफूड खाने से बचना चाहिए। कच्‍चा सीफूड पकाते समय ग्‍लव्‍स पहनें और घावों को ढंके रखें। हाथों को भी बीच-बीच में धोते रहें।

साबुन से धोएं घाव

कच्चे सीफूड से घायल होने पर घावों को जितनी जल्दी हो सके साबुन और पानी से धोना चाहिए।

अलग रखें

कंटैमिनेशन से बचने के लिए पके और कच्‍चे शंख को अलग-अलग रखना चाहिए।

खुली हुई शेलफिश खाएं

केवल वही शेलफिश खाएं जो खाना पकाने के दौरान खुल जाती है। ऐसी किसी भी शेलफिश को खाने से बचें, जो पकाने के बाद पूरी तरह से नहीं खुलती है।

विब्रियो वल्निफिकस एक दुर्लभ लेकिन गंभीर बैक्‍टीरियल इंफेक्‍शन है। इसके लक्षण तेजी से बिगड़ते हैं और अगर इलाज न किया जाए तो कुछ ही दिनों में यह घातक हो सकता है। एंटीबायोटिक दवाओं के साथ लोगों में विब्रियो वल्निफिकस संक्रमण ठीक हो सकता है। आप सीफूड से जुड़ी गाइलाइन को फॉलो करके संक्रमण के खतरे को रोक सकते हैं।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.com